तेजी से वजन कैसे घटाएँ?

हजारों महिलाएँ तेजी से और काफी वजन कम करने का सपना देखती हैं। चूंकि एक पतली स्लिम बॉडी हमेशा फ़ैशन में रहेगी, नई-नई डाइटों और वजन घटाने के विभिन्न तरीकों की डिमांड हमेशा ज़्यादा ही रहने वाली है।

तो क्या तेजी से और बिना ज़्यादा मेहनत के वजन कम करना संभव है?

डाइटें

90% महिलाएँ मानती हैं कि डाइटों से उनका वजन बस 1-2 हफ्तों में कम हो जाएगा। लेकिन वास्तविक अनुभव दर्शाते हैं कि सामान्य खाना शुरू करने के तुरंत बाद पहले घटाए किलो वापस आ जाते हैं और कमर में दिखने लगते हैं।

उदाहरण। एक 40 वर्ष की महिला, नाश्ते, लंच और डिनर के अलावा एक दिन में 3 छोटे कपकेक खाती है। उसका एक्सट्रा वजन 7 किलो है। वो 7 दिन की डाइट पर गई, उसने अपने कपकेक खाने बंद कर दिये और 2 किलो कम कर लिया। एक हफ्ते बाद उसने फिर अपने फेव्रेट केक खाने शुरू कर दिये और 5 किलो वजन अगले 10 दिनों में ही वापस चढ़ा लिया।

यही कारण है कि डाइटों से तेज रिज़ल्ट तो मिल सकते हैं लेकिन ये लंबे समय तक दुबलापन बनाए रहने में नाकाम होती हैं। अपने पाए नतीजों को लंबे समय तक बनाए रखने के लिए डाइटीशियन सलाह देते हैं कि आप अपनी खुराक में से फास्ट कार्बोहाइड्रेट जैसे बेक की हुई चीजें, शक्कर और मिठाई वगैरह हटा दें।

फास्ट कार्ब्स की जगह धीमे कार्ब्स लेने चाहिए। ये मोटे अनाज की रोटियों, सब्जियों, ओट्स, दलिया आदि में मिलते हैं। चाय और कॉफी भी बिना शक्कर के पीनी चाहिए। इसकी जगह आप थोड़ा शहद ले सकती हैं लेकिन उसे भी लिमिट में ही लें। बहुत गरम पानी में शहद मिला कर पीने से कैंसर होने का खतरा रहता है।

स्वास्थ्य भोजन

कम नमक खाएं। इससे शरीर में पानी जमा हो जाता है और सूजन आती है। यही नहीं अधिक नमक वाले खानों से भूख बढ़ती है और आदमी ज्यादा खाने लगता है।

जानवरों से आई चर्बी मोटापे का मुख्य कारण होती है। बटर, मार्जारीन, फैट वाले माँस आदि में काफी कैलोरी होती हैं।

क्या आप वजन कम करना चाहती हैं और तब भी नॉन-वेज खा सकती हैं? बिल्कुल। प्रकृति ने चीजें इस तरह से बनाईं हैं कि इंसान को जानवरों से आने वाले प्रोटीन लेने ही होते हैं। हाँ, नॉन-वेज में फैट नहीं होने चाहिए। पोर्क, मटन, बत्तख की जगह चिकन, मछली और सी-फूड वगैरह लेना चाहिए। चिकन और क्वेल के अंडे कितने भी खाए जा सकते हैं।

वजान घटाने के लिए खान-पान

“शाम 6 बजे के बाद न खाएँ।“ – वजन कम करने की कोशिश कर रहे लोगों को यह कठिन लगता है। कई लोग तो दोपहर 3 बजे के बाद से ही खाना बंद कर देते हैं लेकिन यह ठीक नहीं है। आधे दिन तक उपवास करना कठिन होता है। और खाली पेट कड़ी एक्सर्साइज़ करना तो और भी कठिन होता है।

डॉक्टर कहते हैं कि वजन कम करने के लिए आपको थोड़ी-थोड़ी मात्रा में (लगभग 200 ग्रां) दिन में 5 बार खाना चाहिए। शाम को फल नहीं खाने चाहिए। डिनर के लिए सबसे अच्छी चीज होती है थोड़ा दही और सब्जियों की सलाद। यदि आपको खानों के बीच बहुत भूख लगती है तो नींबू के रस के साथ थोड़ा पानी ले लें।

क्या आप बिना उपवास किए वजन कम कर सकते हैं?

अपनी डाइट में से कैलोरी घटाए बिना या बस स्पेशल सप्लिमेंट लेने भर से वजन नहीं घटाया जा सकता। आपकी डाइट जो भी हो, वजन घटाने के आधुनिक एक्टिव सप्लिमेंट्स दुबले होने में मदद करते हैं। कुछ तरीके जैसे Green Coffee कॉक्टेल से आप बड़ी आसानी से दुबली हो सकती हैं।

Green Coffee एक ऐसा पाउडर है जिसमें पौधों के रस से स्वादिष्ट चॉक्लेट ड्रिंक बनाया जा सकता है। इन रसों से मैटाबॉलिज़्म तेज हो जाता है और दुबले होने की गति बढ़ जाती है। Green Coffee के साथ औसतन हर हफ्ते 1.5 – 4 किलो तक वजन कम हो जाता है। कॉक्टेल को एक महीने तक लेना चाहिए।

वजन घटाने के लिए एक्सर्साइज़

सभी मसल्स की एक्सर्साइज़ करनी जरूरी होती है।

जिम में कड़ी ट्रेनिंग वजन कम करने के लिए काफी कारगर होती है। लेकिन एक्सर्साइज़ तभी काम करती है जब आप अपनी डाइट को कंट्रोल में रखें और कम कैलोरी लें। अपनी सामान्य डाइट को बदले बिना एक्सर्साइज़ करने से कोई फायदा नहीं होता। शरीर की खास जगहों के लिए एक्सर्साइज़ करना भी काम नहीं आता, सभी मसल्स की एक्सर्साइज़ करनी जरूरी होती है।

एक्सर्साइज़ की कठिनाई धीरे-धीरे बढ़ानी चाहिए। ट्रेनिंग सेशन्स हर हफ्ते 2-3 बार करने पर सबसे सटीक नतीजे देते हैं। एक सेशन 2 से 3 घंटे तक चलना चाहिए।

वजन कम करने के लिए ऑपरेशन

वजन कम करने के लिए ऑपरेशन सिर्फ तभी करवाना चाहिए जब मोटापे से जान को खतरा हो गया हो।

ऑपरेशन में सर्जन खास रिंग्स की मदद से पेट का साइज़ कम कर देता है। इस ऑपरेशन के बाद पेशेंट अधिक खाना खा ही नहीं पाता। इसकी कठिनाई के बावजूद ये एक काफी असरदार तरीका है।

एक और टाइप का ऑपरेशन होता है लिपोसक्शन। एक सर्जन चाकू से बॉडी में छोटे-छोटे कट लगाकर स्किन के अंदर खास तरह के औज़ार डालकर अधिक फैट को खींच कर बाहर निकाल देते हैं। यदि आप ज़िंदगी भर कड़ी डाइट नहीं लेंगी तो लिपोसक्शन का असर सिर्फ कुछ ही समय तक रहता है।

यही नहीं, वजन कम करने के ऑपरेशन में एनेसथीसिया लगाना पड़ता है जो खतरनाक हो सकता है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.